लाख चुनौतियां हो मंज़िल तो हिम्मत से मिलती है-रमनीक सिंह

जालंधर 5 जनवरी (जसविंदर सिंह आजाद)- ड्टाुला दो बीता हुआ कल, दिल में बसाओ आने वाला कल, हँसों और हसाओं चाहे जो ड्टाी हो पल । उक्त पंक्तियों के साथ डिप्स चेन ॲाफ इंस्टीच्यूशन के सी.ए.ओ रमनीक सिंह ने करतारपुर के गुरूकुल में अयोजित पंजाब प्रंातिय अर्यवीर दल शिविर के समापन समारोह में बतौर विशेष अतिथि अपने विचार सांझे किए। उन्होंने सारे देश वासियों को नव वर्ष की मंगल बेला में बधाई देते हुए कहा कि लाख चुनौतियां हो मंज़िल तो हिम्मत से मिलती है और देश की धरोहर युवा पीढ़ी को ,बच्चों को इस प्रकार के उर्जा से ड्टारपूर , सकारात्मक शक्ति से लबरेज़ शिवरों में सिखाया जाता है कि किस प्रकार आँखों में पल रहे अनगिनत सपनों के साकार करने के लिए कैसे सुनियोजित होना पड़ता है तथा व्यक्तिगत सिद्धातिक मूल्यों के अनुसरण से मंज़िल को पया जा सकता है।
रमनीक सिंह ने कहा कि इस प्रकार के शिवर एक स्वर्णिम अवसर होते है, बच्चों को मानवता , सुहाद्रता , देश के प्रति प्रेम तथा अनुशासन के प्रति लगाव के बारे में अवगत करवाया जा सकता है। इस अवसर पर रमनीक सिंह ने गुरुकुल के प्रबंधन को हार्दिक बधाई देते हुए डा. उद्यान का उन्हें इस सुअवसर पर आमंत्रित करने का धन्यवाद किया। ज्ञात हो इस शिविर के समापन समारोह में दिल्ली, लुधियाना, कपूरथला , पठानकोट, जालंधर , फगवाड़ा तथा कादियान से प्रतिष्ठत आर्यगण उपस्थित थे। जीत और हार अपकी सोच पर निड्र्टार करती है। मान लो तो हार होगी, ठान लो तो जीत होगी। इन्हीं शब्दों के साथ डिप्स चेन के सी.ए.ओ रमनीक सिंह ने आए हुए लोगों का हार व्यक्त किया।

Leave a Reply