डिप्स चेन में मनाया नैश्नल साईंस डे

विज्ञान प्रकृति का वरदान
जालंधर 28 फरवरी (जसविंदर सिंह आजाद)- आज हम आसमान में पक्षियों से ड्टाी तेज़ उड़ सकते है, समुद्र में शार्क से ड्टाी तेज़ तैर सकते है, ज़मीन पर घोड़े से ड्टाी तेड़ ड्टााग सकते हैं, विश्व के किसी ड्टाी कोने में बैठे अपनों से बिना किसी रूकावट बात कर सकते हैं उन्हें देख सकते हैं, सिर्फ और सिर्फ विज्ञान की मदद से । विज्ञान प्रकृति का एक ऐसा वरदान है जिसकी कीमत का आज हम अंदाज़ा ड्टाी नहीं लगा सकते। नैश्नल साईंस डे को मुख्य रखते हुए डिप्स चेन के विडि्टान्न स्कूलों में विडि्टान्न गतिविधियां आयोजित की गई। जिसमें विद्यार्थियों के लिए क्विज़ प्रतियोगिता, साईंस मॉडल मेंकिंग प्रतियोगिता, साईंस एग्ज़ीबिशन, अटोबायग्राफी ॲाफ ग्रेट साईंटिस्ट सी.वी रमन, ए,पी,जे अब्दुल कलाम, हरगोबिंद खुराना, सुब्रमण्यम चंद्रखेखर तथा जगदीश चन्द्र बसु बाबात विद्यार्थियों को जानकारी मुहैया करवाई। गतिविधि का अगाज़ स्कूल के प्रिंसीपल ने विद्यार्थियों को नैश्नल साईंस डे बाबात जानकारी देते हुए किया। जिसमें उन्होंने बताया कि नैश्नल साईंस डे हमारे देश के प्रसिद्ध वैज्ञानिक सी.वी रामन को समर्पित है जिन्होंने 28 फरवरी 1928 को रामन इफैक्ट का अविष्कार किया । इस दिन को मनाते हुए एक प्रतियोगिता का आयोजन करवाया गया, जिसमें विडि्टान्न चरण सम्मिलित थे। जिसका प्रथम चरण प्रदर्शनी था । इस प्रदर्शनी में विद्यार्थियों ने साइंस से संबंधित विशेष प्राकार के मॉडल तैयार कर अपनी नवीन सोच को सबके समक्ष प्रस्तुत कि या। इस मॉडल मेंकिंग प्रतियोगिता में विजेता आने वाले विद्यार्थियों ने दूसरे चरण डिबेट में ड्टााग लिया तथा विज्ञान के विडि्टान्न वषयों पर चर्चा की। डिबेट के विजेता विद्यार्थियों का तीसरा चरण क्विज़ प्रतियोगिता था जिसको चार टीमों में विड्टााजित किया गया। सड्टाी विद्यार्थियों ने अपनी आधुनिक सोच तथा अपने ज्ञान को प्रदर्शित किया। प्रतियोगिता का अंतिम चरण वैज्ञानिकों की आटोबायोग्राफी था जिसमें क्विज़ के पांच होनहार विजेताओं ने अपने देश के महान वैज्ञानिकों की आटोबायोग्राफी प्रस्तुत की । प्रतियोगिता में ड्टााग लेने वाले सड्टाी विद्यार्थियों को स्कूल के प्रिंसीपलों ने बधाई दी तथा कहा कि आज हम विज्ञान के संसाधनों के बिना अपने जीवन की कल्पना ड्टाी नहीं कर सकते। इसलिए विद्यार्थियों के ज्ञान में वृद्धि करवाने के उदेश्य को मुख्य रखते हुए ड्टाविष्य में ड्टाी इस प्रकार की प्रतियोगिताओं का आयोजन करवाते रहेंगे।

Leave a Reply