छात्रों ने मानवीय कड़ी बना बताया कुदरती आपदा में मनुष्य ही मनुष्य का सच्चा मददग़ार

जालंधर 19 दिसंबर (जसविंदर सिंह आजाद)- कुदरती विपत्तियों जैसे सोनामी, भूचाल, हालही में चेन्नई में आई भयंकर बाढ़ जिसमें सभी चीजें तबाह हो गई, ऐसी विपत्तियों हमे सन्देश मिला कि मनुषता ही मानव का सबसे बढ़ा धर्म है क्योंकि ऐसे में मानव ही मानव की मदद कर सकता हैं। इसी का सन्देश सेंट सोल्जर डिवाईन पब्लिक स्कूल मान नगर ब्रांच के छात्रों द्वारा दिया गया।प्रिंसिपल श्रीमती कंवलजीत कौर आहूजा के दिशा निर्देशों पर छात्रों आराध्ना, वंशिका, हर्षिता,जसलीन, गरिश, हर्षदीप, डेज़ी, नेहा, बलजिंदर, जसलीन, दमन, अमित आदि ने मानवीय चैन बनाते हुए मानवता, भाईचारा, एकता, केयरिंग, पर्सनल रिस्पोंसिबल्टी आदि का सन्देश देते हुए कहा कि जब भी कोई कुदरती आपदा आती है और सुख सुविधाऐं, मोबाइल, पैसा हमारी मदद करने में विफल हो जाते है तो मनुष्य ही एक ऐसा प्राणी है जो दूसरे मनुष्य की मदद कर सकता है और यही खूबसूरत सन्देश हमें हर कुदरती आपदा के बाद मिलता है कि मनुष्य ही मनुष्य का सच्चा मददग़ार है।

Leave a Reply